।। प्याला ।।

Comments · 688 Views

बढ़ती गरीबी और साथ ही मनुष्य की बढ़ती विडम्बना को दर्शाती ये कविता

प्याला

Comments
Kritika Mardi 2 yrs

जीवन का सत्य।

 
 
ravi biruly 2 yrs

बहुत खूब !!